तीन साल में बनकर हो तैयार हो जाएगा जेवर एयरपोर्ट, पीएम मोदी और सीएम योगी दीवाली से पहले करेंगे भूमि पूजन

जेवर अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट की टेक्निकल इकनामिक फिजिबिलिटी रिपोर्ट (टीईएफआर) के मुताबिक नींव रखने के 36 महीने बाद जेवर एयरपोर्ट बनकर तैयार हो जाएगा। उत्तर प्रदेश में हवाई सफर को बेहतर बनाने और अधिक से अधिक शहरों को इससे जोड़ने के लिए सुरेश प्रभु की अगुवाई में केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय और प्रदेश की सरकार मिलकर लगातार काम कर रही है। जेवर एयरपोर्ट का भूमि पूजन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में दीवाली से पहले कराने की तैयारी है।

रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम के तहत उत्तर प्रदेश में 11 नए एयरपोर्ट विकसित किए जा रहे हैं। अगले 15 महीनों के अंदर अलीगढ़, आजमगढ़, बरेली, चित्रकूट, झांसी, मुरादाबाद, सोनभद्र, इलाहाबाद और श्रावस्ती से विमान सेवाएं शुरू होंगी। इसके साथ ही लखनऊ एयरपोर्ट पर नया टर्मिनल बनकर तैयार हो जाएगा। इसके लिए जमीन अधिग्रहण से लेकर निर्माण कार्य पर 19 हजार करोड़ रुपये खर्च होंगे।

उत्तर प्रदेश के नागरिक उड्डयन मंत्री नन्द गुप्ता नन्दी ने कहा, यूपी के लोगों को बेहतर हवाई सेवा उपलब्ध करने के लिए प्रदेश में कई एयरपोर्ट विकसित किए जा रहे हैं। 14 जून से इलाहाबाद एयरपोर्ट से लखनऊ और पटना के लिए उड़ान शुरू होने जा रही है। इसके अलावा 16 जून से नागपुर व इंदौर के लिए भी फ्लाइट्स शुरू होंगी। 9 एयरपोर्ट व 22 एयर रूट का चयन का काम पूरा हो चुका है।

जेवर एयरपोर्ट की यात्री क्षमता 
जेवर एयरपोर्ट की क्षमता 60 लाख यात्रियों की होगी। सालाना इसकी क्षमता बढ़ते हुए 2050 तक 10 करोड़ तक पहुंचने का अनुमान है। इससे प्रदेश में नागरिक उड्डयन के क्षेत्र में बड़ी मात्रा में रोजगार मिलेंगे। मंत्री ने कहा कि इससे प्रदेश में नागरिक उड्डयन के क्षेत्र में बड़ी संख्या में रोज़गार के मौके उत्पन्न होंगे। खासतौर पर एयरपोर्ट पर एयर ऑपरेशन के साथ-साथ एमआरओ, कार्गो तथा एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियरिंग और पायलट ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट समेत कई एविएशन रिलेटेड कमर्शियल गतिविधियां शुरू होने से युवाओं को अच्छे रोजगार के अवसर मिलेंगे।

68 डेस्टिनेशंस होंगे कवर
अनुमान है कि दिल्ली से बाहर का यह एयरपोर्ट घरेलू और इंटरनेशनल, दोनों मिलाकार साल 2022-23 में 68 डेस्टिनेशंस को कवर करेगा। इसमें 8 घरेलू डेस्टिनेशन होंगे और 60 विदेशी। वहीं, साल 2050 तक यह 37 घरेलू और 31 विदेशी डेस्टिनेशंस को कवर कर पाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *