Mon. Dec 17th, 2018

आर्यन छात्रसंगठन ने खोला यूपीपीएल के खिलाफ मोर्चा

यूपीसीएल के प्रबंध निदेष के साथ-साथ सीएम कार्यालय पर भी उठ रहे सवाल।
देहरादून। यूपीसीएल में हुई जे0ई0 भर्ती परीक्षा में एक ही कोचिंग सेन्टर के 66 बच्चो का चयन व चार बार का फेलियर छात्र जे0ई0 भर्ती प्रक्रीया का टापर होने से प्रदेष की राजनीति में संगामा खडा हो गया है। मामला भ्रश्टाचार से जुडा होने से सीएम कार्यालय पर सवाल खडे हो गये है।

जिसके बाद से पूरी भर्ती प्रक्रीया पर सवालिया निषान उठाता है साथ ही पूर्व में भी हुई भर्ती प्रक्रीया में भी इसी कोचिंग संस्थान के अधिकतर छात्रों का चयन होना व परीक्षा में टापर आना संदिग्ध है। जिसे लेकर आर्यन छात्र संगठन के प्रदेष अध्यक्ष नरेष राणा के नेतृृत्व में सैकड़ों कार्यक्रर्ताओं व प्रदेष भर के विभिन्न महाविद्यालयों/विष्वविद्यालयों के पदाधिकारियों ने पिटकुल, यूजेविएनएल व यूपीसीएल में भर्तीयों में हो रही धांलियों की जांच किसी स्वतंत्र एजेन्सी से कराये जाने को लेकर जिलाधिकारी, देहरादून के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेशित किया गया।

इसके साथ ही संगठन के समस्त कार्यकर्ताओं ने उत्तराखण्ड पावर कारपोरेषन लि0 के मुख्यालय विक्टोरिया क्रास विजेता गबर सिंह ऊर्जा भवन में धरना प्रर्दषन किया। इस मौके पर संगठन के प्रदेष अध्यक्ष नरेष राणा ने कहा कि यूपीसीएल में हुई जे0ई0 भर्ती परीक्षा में एक ही कोचिंग सेन्टर के 66 बच्चो का चयन व चार बार का फेलियर छात्र जे0ई0 भर्ती प्रक्रीया का टापर होना पूरी भर्ती प्रक्रीया पर सवालिया निषान उठाता है साथ ही पूर्व में भी हुई भर्ती प्रक्रीया में भी इसी कोचिंग संस्थान के अधिकतर छात्रों का चयन होना व परीक्षा में टापर आना संदिग्ध है। उन्होंने कहा कि प्रकरण की जांच किया जाना अत्यन्त आवष्यक है। उन्होंने आहृवान करते हुये कहा कि संगठन उत्तराखण्ड बेरोजगार युवाओं के साथ किसी भी प्रकार के अन्याय भ्रश्टाचार को बर्दाष्त नहीं करेगा। इस अवसर पर संगठन के मुख्य प्रवक्ता व मिडिया प्रभारी शक्ति सिंह बर्त्वाल  ने कहा कि ऊर्जा के तीनों निगमों में फैले भ्रश्टाचार की जड़ को संगठन उखाड़ फेंकेगा तथा भ्रश्टाचारियों को जेल के अन्दर पहंुचाने तक का काम करेगा, बत्र्वाल ने स्पश्ट तौर पर कहा कि निगमों में हो रहे भर्ती घोटालो में निगम प्रबन्धनों की मिलीभगत को इन्कार नहीं किया जा सकता है। षाक्ति सिंह बत्र्वाल ने कहा कि प्रबन्ध निदेषक उत्तराखण्ड पावर कारपोरेषन लि0 के बी0सी0के0 मिश्रा के उस बयान पर भी कड़ा विरोध जताया, जिसमें मिश्रा द्वारा यह कहा गया कि उक्त जे0ई0 निगम को न मिलने से कामकाज पर असर पढ़ सकता है। प्रदेष महासचिव सतीष मोहन पन्त ने कहा कि यदि राज्य सरकार पिटकुल, यूजेविएनएल व यूपीसीएल में पिछले 5 वर्शों में हुई समस्त भर्ती प्रक्रीया की जांच किसी स्वतंत्र एजेन्सी से नहीं कराती है तो संगठन प्रदेष भर में व्यापक आन्दोलन करेगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *