Home > उत्तराखंड > बीपीएल परिवारों को मुफ्त में बिजली का कनेक्शन:त्रिवेंद्र सिंह रावत%!%!%!%!%!%!%!%!

बीपीएल परिवारों को मुफ्त में बिजली का कनेक्शन:त्रिवेंद्र सिंह रावत%!%!%!%!%!%!%!%!

मु्ख्यमंत्री  त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बीपीएल परिवारों को मुफ्त में बिजली का कनेक्शन देने की योजना सौभाग्य का देहरादून से आगाज किया। इसके साथ ही तीन दिवसीय बर्ड फेस्टिवल की भी शुरुआत की।

 शुक्रवार को केंद्रीय ऊर्जा राज्यमंत्री आरके सिंह और मु्ख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सौभाग्य योजना का शुभारंभ किया। इस योजना के तहत प्रदेश में लगभग 3.5 लाख घरों में कनेक्शन दिया जाना है। शुक्रवार को ही पूरे प्रदेश में 10 हजार कनेक्शन जारी करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। प्रदेश के अन्य जनपदों में प्रभारी मंत्री योजना के तहत शुक्रवार कनेक्शन वितरित करेंगे।

वहीं शुक्रवार को थानो में तीन दिवसीय बर्ड फेस्टिवल आयोजित किया जा रहा है। जिसके पहले दिन बर्ड वाचिंग, फिल्म शॉ और परिचर्चा की जाएगी। इसके अलावा हेरिटेज वॉक होगी। जबकि 10 मार्च को बर्ड फोटोग्राफी कार्यशाला, रुरल ईको टूरिज्म कार्यशाला और 11 मार्च को इसका समापन होगा।

 ‘सौभाग्य योजना’ से हर घर होगा रोशन, लोगों को ऐसे मिलेगा फायदा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जन्मशती के मौके पर ‘सौभाग्य योजना’ की शुरुआत की, जिसका मकसद है हर घर तक बिजली का कनेक्शन पहुंचाना. जानें- ‘सौभाग्य योजना’ के जरिए कैसे होगा काम और क्या होंगे इसके फायदे.

सौर ऊर्जा के सहारे मिलेगी बिजली: इस योजना के तहत ग्रामीण इलाकों में रहने वाले गरीबों के घर बिजली पहुंचाने की योजना का लक्ष्य रखा गया है. देश के दूरदराज इलाकों में जहां हर घर में बिजली का कनेक्शन पहुंचाना मुश्किल है वहां सरकार घरों को रोशन करने के लिए सौर ऊर्जा का सहारा लेगी और लोगों को बैटरी, 5 LED लाइट और एक पंखा देगी.गांवों के हर घर तक बिजली पहुंचाने का लक्ष्य: सौभाग्य योजना से दिसंबर 2018 तक हर घर तक बिजली पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है, ताकि देश का कोई भी घर अंधेरे में ना रहे. जहां अभी बिजली कनेक्शन लेने के लिए पैसे खर्च करने पड़ते हैं वहीं इस योजना की खास बात यह है कि लोगों को अपने घर में बिजली कनेक्शन पाने के लिए किसी तरह का कोई खर्च नहीं करना होगा. कनेक्शन पाने के लिए नहीं करना होगा खर्च: इस योजना के लिए सरकार ने 16,320 करोड़ रुपये का बजट रखा है. हर घर तक बिजली पहुंचाने का 60% खर्च केंद्र सरकार उठाएगी जबकि 10% खर्च राज्य सरकारों को उठाना होगा और 30% बैंकों से लोन लिया जाएगा. इस योजना की खास बात यह है कि लोगों को अपने घर में बिजली कनेक्शन पाने के लिए कोई खर्च नहीं करना होगा.महिलाओं को मिलेगा धुएं से छुटकारा, सेहत में होगा सुधार: इस योजना से गांव की महिलाओं को भी फायदा होगा, जिनके पास अब तक सिलेंडर के कनेक्शन नहीं हैं वो बिजली के जरिए खाना बना सकेंगे. महिलाओं को धुएं से होने वाली परेशानियों से निजात मिलेगा जिससे उनका स्वास्थ्य बेहतर होगा. इस योजना के उद्घाटन के मौके पर पीएम ने कहा कि ‘किसने सोचा था कि ऐसी सरकार आएगी जो महिलाओं को रसोई के धुएं से मुक्ति दिलाएगी.’

नहीं लगाने होंगे बिजली दफ्तर के चक्कर, घर आकर सरकार खुद देगी कनेक्शन: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस योजना के लागू होने के बाद बिजली का कनेक्शन पाने के लिए सरकारी दफ्तरों के बार-बार चक्कर काटने का सिलसिला भी बंद हो जाएगा, क्योंकि सरकार खुद लोगों के घर-घर जाकर बिजली कनेक्शन लगाएगी और उन लोगों की पहचान करेगी जिनके घर बिजली का कनेक्शन अभी तक नहीं है.मोबाइल ऐप का भी ले सकते हैं सहारा: प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए मोबाइल ऐप का सहारा लिया जाएगा और लोग बिजली के कनेक्शन के लिए आवेदन देने से लेकर सारी कार्यवाही मोबाइल ऐप के जरिए ही पूरी कर सकेंगे. गरीब लोगों के लिए बिजली कनेक्शन पाने की प्रक्रिया पूरी तरह मुफ्त होगी, लेकिन बाकी लोगों को भी इसके लिए सिर्फ ₹500 खर्च करने होंगे और वह भी 10 किश्तों में बिजली बिल के साथ लिया जाएगा.इस आधार पर होगा चयन: किन घरों को मुफ्त में बिजली दी जानी है इसका चयन सामाजिक-आर्थिक और जाति जनगणना 2011 के मुताबिक किया जाएगा.ट्रांसफार्मर, मीटर और तारों के लिए भी सब्सिडी: सौभाग्य योजना के तहत ट्रांसफार्मर, मीटर और तारों के लिए भी सब्सिडी दी जाएगी.’सौभाग्य योजना’ को लागू करने के लिए ग्रामीण विद्युतीकरण निगम लिमिटेड (REC) को नियुक्त किया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *