Tue. Dec 11th, 2018

एनसीईआरटी किताबों में मिलेगी पोक्सो एक्ट की जानकारी

एनसीईआरटी किताबों के पहले पन्ने पर अब स्कूली छात्र पॉक्सो एक्ट के बारे में पढ़ सकेंगे। नये सत्र से इन किताबों के माध्यम से अच्छे बुरे स्पर्श व चाइल्ड हेल्पलाइन के बारे में जानकारी मिलेगी। यह पहल केंद्रीय महिला बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने की थी। दरअसल, उन्होंने मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर से किताबों में पोक्सो को शामिल करने की मांग की थी। एनसीईआरटी की छठीं से बारहवीं तक की सभी किताबों के पहले पन्ने पर पोक्सो ई बॉक्स इंफॉर्मेशन दी गई है।

 इस पन्ने पर रातदिन चलने वाली 1098 चाइल्ड हेल्पलाइन समेत पोक्सो एक्ट के बारे में जानकारी दी गई है। इसमें विस्तार से बताया गया है कि शारीरिक शोषण होने पर छात्र किस प्रकार मदद, शिकायत ले सकते हैं। वहीं, शिक्षकों समेत अभिभावकों को भी ई-पोक्सो पर कैसे शिकायत करें कि जानकारी दी जाएगी। बता दें कि करीब पंद्रह लाख स्कूलों में 26 करोड़ छात्रों को इन पुस्तकों से शारीरिक शोषण के बारे में समझने का मौका मिलेगा।

सोशल साइंस की किताब में होगा चैप्टर 

एनसीईआरटी की सोशल साइंस की किताब में पोक्सो या शारीरिक शोषण पर एक चैप्टर भी होगा, जिसके माध्यम से बच्चों को अच्छे और बुरे स्पर्श के बारे में समझाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *