Home > राज्यों से > दाती महाराज पर लगा शिष्या से रेप का आरोप, एफआईआर दर्ज

दाती महाराज पर लगा शिष्या से रेप का आरोप, एफआईआर दर्ज

दिल्ली के फतेहपुर बेरी स्थित प्रसिद्ध शनिधाम मंदिर के संस्थापक दाती महाराज के खिलाफ उनकी एक महिला शिष्य की शिकायत पर दिल्ली पुलिस ने सोमवार को दुष्कर्म का मामला दर्ज किया है।

महिला शिष्य का आरोप है कि दो साल पहले शनि धाम मंदिर के अंदर उसका यौन उत्पीड़न किया गया था। दाती महाराज के विरुद्ध भारतीय दंड विधान की धारा 376, 377, 354 और 34 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

पुलिस सूत्रों के अनुसार, महिला ने अपनी शिकायत में कहा है कि दो वर्ष पूर्व दाती महाराज ने मंदिर के अंदर ही उसके साथ बलात्कार किया और किसी को इस बारे में नहीं बताने की धमकी भी दी थी।

दाती महाराज ‘शनि शत्रु नहीं मित्र है’ कार्यक्रम करके चर्चा में आए थे। दाती महाराज पहले ऐसे संत नहीं है जिन पर रेप का आरोप लगा है। इनसे पहले भी कई बाबा ऐसे आरोपों में जेल में बंद हैं। आइए जानें इन बाबाओं का किन विवादों से है नाता?

आसाराम

इसी साल जोधपुर की एक अदालत ने आसाराम को नाबालिग से बलात्कार के मामले में दोषी करार दिया है। पीड़िता ने आसाराम पर उसे जोधपुर के नजदीक मनाई इलाके में आश्रम में बुलाने और 15 अगस्त 2013 की रात उसके साथ बलात्कार करने का आरोप लगाया था।

गुरमीत राम रहीम सिंह

पिछले साल अगस्त महीने में सीबीआई की विशेष अदालत ने दो साध्वियों के बलात्कार मामले में सिरसा के डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को 20 साल सश्रम जेल की सज़ा सुनाई। राम रहीम पर 30 लाख 20 हजार रुपए जुर्माना लगाया।

नारायण साईं

सूरत की दो बहनों ने नारायण साईं और उसके पिता आसाराम के खिलाफ रेप के आरोप लगाए थे। इसके बाद 6 अक्‍टूबर को नारायण साईं के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। नारायण साईं को दिल्ली और सूरत पुलिस ने जॉइंट ऑपरेशन में कुरुक्षेत्र के पास पीपली से दिसंबर 2013 में गिरफ्तार किया था। नारायण साईं अभी गुजरात के सूरत की लाजपोर जेल में बंद है।

स्वामी नित्यानंद-विवादित सीडी के बाद हुए थे गिरफ्तार

स्वामी नित्यानंद दक्षिण भारत के चर्चित धर्मगुरु हैं। 2010 में नित्यानंद की एक कथित सेक्स सीडी सामने आने के बाद वे विवाद में आये। इस सीडी में नित्यानंद एक अभिनेत्री के साथ शारीरिक संबंध बनाते हुए देखे गए। सेंट्रल फोरेंसिक लैब में हुई जांच में सीडी को सही पाया गया। हालांकि नित्यानंद की ओर से एक अमेरिकी लैब की रिपोर्ट पेश कर सीडी से छेड़छाड़ होने का दावा किया गया। इसके बाद जमकर हंगामा हुआ और नित्यानंद को गिरफ्तार कर लिया गया, हालांकि कुछ दिनों बाद उन्हें जमानत मिल गई थी। वह बेंगलुरु-मैसुरु हाईवे पर नित्यानंद ध्यानदीपम नाम का आश्रम चलाते हैं।

स्वामी परमानंद-यौन शोषण मामले में गिरफ्तारी

बाबा राम शंकर तिवारी उर्फ स्वामी परमानंद का एक वीडियो भी वायरल हुआ था, जिसमें वह एक महिला के साथ आपत्तिजनक हालत में दिख रहे थे। उन पर उनके पास संतान प्राप्ति की इच्छा से आने वाली महिलाओं के यौन उत्पीड़न का आरोप लगा। उन्हें यूपी पुलिस ने यौन शोषण के मामले में गिरफ्तार किया था। कहा जाता है कि बाबा का निजी कमरा काफी रहस्यमय था और वहां काफी अश्लील साहित्य था। उनके आश्रम के नजदीक कूड़े में शक्तिवर्धक दवाएं और कंडोम मिलने की बातें भी सामने आईं।

स्वामी भीमानंद-देह व्यापार में हुए थे गिरफ्तार

फरवरी 2010 में दिल्ली के लाजपत नगर से गिरफ्तार हुए भीमानंद महाराज पर देह व्यापार में शामिल होने का आरोप लगा था। भीमानंद का वास्तविक नाम शिवमूरत द्विवेदी है और वह चित्रकूट के चमरौहा गांव का रहने वाले हैं। जेल से छूटने के बाद उन्होंने खुद को साईं बाबा का अवतार घोषित कर दिया था। वह 1988 में दिल्ली के नेहरु प्लेस स्थित एक पांच सितारा होटल में गार्ड की नौकरी करता था। इसके बाद बाबा बनने के बाद 12 साल के अंदर ही स्वामी भीमानंद महाराज ने अरबों की संपत्ति बना ली। उन्होंने चित्रकूट में 200 बेड का अस्पताल भी बनवाया था। मंहगी कारों के शौकीन स्वामी के कई शहरों में आश्रम हैं।

स्वामी ओम-बिग बॉस में महिलाओं पर की अभद्र टिप्पणी

स्वामी ओमजी महाराज का असली नाम विनोदानंद झा है। बिग बॉस 10 शो के दौरान कई मौकों पर उन्होंने सीमाएं पार कीं। उन्हें लोपमुद्रा राउत, मोना लिसा, आकांक्षा शर्मा, गौरव चोपड़ा को गलत तरीके से छूते भी देखा गया। एक जगह शो में वह कहते दिखे कि ‘आपको नहाते देखने के लिए मैं कई दिन से इंतजार कर रहा हूं।’इसके अलावा सार्वजनिक जीवन में भी अलग-अलग मौकों पर महिलाओं से बदसलूकी और हाथ उठाने के मामले भी सामने आए हैं। विवादित हरकतों की वजह से कई मौकों पर भीड़ और महिलाओं ने उनकी पिटाई भी की। आर्म्स एक्ट, टाडा जैसे सख्त कानूनों के शिकंजे में फंसे स्वामी के खिलाफ अपने भाई की दुकान में हुई साइकिल चोरी का केस भी दर्ज है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *