Home > उत्तराखंड > मसूरी में हैलीकाप्टर सेवा पर रोक, पर्यटक मायूस

मसूरी में हैलीकाप्टर सेवा पर रोक, पर्यटक मायूस

मसूरी कैम्पटी से शुरू हुई हवाई सेवा पर मसूरी वन विभाग ने रोक लगा दी है। बताया जा रहा है कि हेरिटेज एवीएशन की ओर से वन विभाग और एनजीटी से मसूरी कैम्पटी क्षेत्र में हवाई सेवा देने को लेकर कोई अनुमति नहीं ली गई थी। जिसको देखते हुए मसूरी डीएफओ की ओर से फिलहाल हवाई सेवा पर रोक लगा दी गई है। जिससे के बाद कैम्पटी और मसूरी क्षेत्र के लोगों में मायूसी छा गई है।

बता दे की कुछ दिन पहले मसूरी कैम्प्टी क्षेत्र में पर्यटकों के साथ स्थानीय लोगों को रोजगार और व्यवसाय में बढ़ोतरी को लेकर राज्य सरकार द्वारा मसूरी, हिमालय के साथ यमुनाघाटी के दर्शन के लिये हेली सेवा शुरू की गई थी। गौरतलब है नियमों के अनुसार हेरिटेज एविएशन खुले आम एनजीटी और वन्य जीव अभयारण्य के नियमों की उल्लंघन कर रहा था। मसूरी से लेकर कैम्पटी तक ज्यादातर वन्य जीव एरिया पड़ता है। जिसमें एनजीटी के नियमों के अनुसार 2 हजार फीट से उपर उड़ाने भरनी हैं। लेकिन हेरिटेज एविएशन द्वारा नियमों के विरुद्ध उड़ान भरी जा रही थी। जिसके बाद वन विभाग को कार्यवाही करनी पड़ी।

हेरिटेज एविएशन कैम्पटी और मसूरी के एरिया में बिना वन विभाग की अनुमति के ही वाइल्ड लाइफ सेंचुरी के इर्द-गिर्द बेखौफ उड़ान भर रहा था जबकि मसूरी से लेकर कैम्पटी तक ज्यादातर वन्य जीव एरिया पड़ता है। जिसमें एनजीटी के नियमों के अनुसार 2 हजार फीट से ऊपर उड़ाने भरनी हैं, लेकिन हेरिटेज एविएशन द्वारा नियमों के विरुद्ध उड़ान भरी जा रही थीं. जिसके बाद वन विभाग को कार्रवाई करनी पड़ी।

डीएफओ डॉ. कहकशां का कहना है कि कम्पनी द्वारा वन विभाग के मसूरी कैम्पटी क्षेत्र में हवाई सेवा के लिये किसी प्रकार की अनुमति नहीं ली है जबकि डीएम टिहरी सोनिका का कहना है कि हमने कम्पनी को जो परमिशन दी है उसमें हमने पहले ही साफ कर दिया था कि संबंधित विभागों से भी अनुमति ली जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *