Thu. Feb 21st, 2019

2019 के ‘कुंभ’ का मुख्यमंत्री योगी ने किया प्रतीक चिन्ह जारी

इलाहाबाद। यूनेस्को की सूची में शामिल हो चुके कुंभ मेले की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। योगी सरकार ने 2019 में लगने वाले कुंभ का लोगो यानी प्रतीक चिन्ह जारी कर दिया है। ये कुंभ मेला सर्वसिद्धिप्रद: कुंभ के सूक्ति वाक्य को परिभाषित करेगा, जिसका अर्थ है सभी सिद्धियों को प्रदान करने वाला कुंभ। कुंभ के इस लोगो में धर्म और अध्यात्म को समझाया गया है और कुंभ मेले की प्राचीनता और महत्व को भी लोगो में समेटा गया है। लोगों में गंगा जमुना के मिलन के साथ अपार जनसमूह, साधुओं का स्नान, शंखनाद, मंदिर और स्वास्तिक कलश भी शामिल है। कुंभ मेले का लोगो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल राम नाईक ने मंगलवार को राजभवन में जारी किया। इस दौरान यूपी के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य डॉ. दिनेश शर्मा नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना और पर्यटन मंत्री डॉ. रीता बहुगुणा जोशी भी मौजूद रहे।

2019 में लगने वाले कुंभ मेले का लोगो कई बातों में अनोखा और खास है। इस लोगो में एक साथ संगम नगरी की पूरी संस्कृति को समेटने का प्रयास किया गया है। लोगो में गंगा जमुना के मिलन को दिखाया गया है, यानी संगम को दिखाया गया है। जिसका भावार्थ है संस्कृतियों का संगम। जमुना धार के बीच भीड़ दर्शायी गई है। जो करोड़ों लोगों की आस्था और संगम तट पर जुटने का प्रतीक है। लोगो शंखनाद करते साधुओं की तस्वीरें भी उकेरी गई हैं, जिससे पौराणिक काल में भारद्वाज मुनि के आश्रम और यहां पर संत महात्मा को भी समय आ गया है।

लोगो में सबसे प्रखर रूप से सूर्य का आभामंडल है, जो बैकग्राउंड में उदित होता हुआ प्रतीत हो रहा है। भगवान भास्कर के मकर राशि में गति परिवर्तन कर पहुंचने की जानकारी देता है। क्योंकि मकर राशि में सूर्य के जाने के बाद ही प्रयागराज में कुंभ मेला लगता है।

2019 में वैसे तो अर्धकुंभ लगना था, लेकिन अब सरकार ने अर्धकुंभ की जगह कुंभ और कुंभ की जगह महाकुंभ का नामाकरण कर दिया है। ऐसे में 2019 में लगने वाले कुंभ मेले में के लिए एक सूक्ति वाक्य रखा गया है। ‘सर्वसिद्धिप्रद: कुंभ:’, जिसका भावार्थ है सभी सिद्धियों को प्रदान करने वाला कुंभ। साधारण शब्दों में हम इसे सभी मनोकामना पूर्ण करने वाला कुंभ कहते हैं।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *