Home > उत्तराखंड > जैविक खेती में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए उत्तराखंड को देश में प्रथम पुरस्कार

जैविक खेती में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए उत्तराखंड को देश में प्रथम पुरस्कार

जैविक खेती में उत्कृष्ट कार्य करने के साथ राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आर्गेनिक उत्पादों की पहचान बनाने के लिए उत्तराखंड को देश में प्रथम पुरस्कार मिला है।

बंगलुरू में आयोजित आर्गेनिक इंटरनेशनल ट्रेड फेयर में कृषि मंत्री सुबोध उनियाल व वन मंत्री हरक सिंह रावत ने संयुक्त रूप से यह पुरस्कार हासिल किया। इसके साथ ही जैविक खेती में सराहनीय कार्य करने वाली नैनीताल जिला कोटाबाग निवासी सावित्री गजरौला को उत्तरी भारत से बेस्ट आर्गेनिक फार्मर के द्वितीय पुरस्कार से नवाजा गया।

19 से 21 जनवरी तक बंगलुरू में आयोजित आर्गेनिक इंटरनेशनल ट्रेड फेयर में देश के कई राज्यों और अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं की ओर से आर्गेनिक उत्पादों को प्रदर्शित किया गया। ट्रेड फेयर में 500 से अधिक स्टाल लगाए गए। उत्तराखंड राज्य की ओर से भी आर्गेनिक उत्पादों की प्रदर्शनी लगाई गई। कर्नाटक सरकार व इकोवा कंपनी की ओर पहली बार देश भर में जैविक खेती में कार्य कर रहे राज्यों व किसानों को पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

जैविक खेती में बेहतर कार्य करने के लिए उत्तराखंड को देश में पहला स्थान मिला, जबकि कर्नाटक को दूसरा व मध्य प्रदेश को तीसरा पुरस्कार मिला। इसके साथ ही पिछले दस सालों से जैविक खेती कर रही नैनीताल के कोटाबाग की सावित्री गजरौला को उत्तरी भारत से किसानों की श्रेणी में द्वितीय पुरस्कार से सम्मानित किया। उन्हें 25 हजार रुपये की नकद राशि व प्रशस्ति पत्र दिया गया। मेले में लोगों ने उत्तराखंड के उत्पादों को खूब सराहा।

अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेले में कृषि मंत्री सुबोध उनियाल ने कहा उत्तराखंड को आर्गेनिक राज्य बनाने की दिशा में सरकार काम कर रही है। राज्य में जैविक एक्ट लाया जा रहा है। जिससे पूरे उत्तराखंड को जैविक राज्य बनाया जाएगा। इस मौके पर उत्तराखंड जैविक उत्पाद परिषद के प्रबंध निदेशक विनय कुमार, डा. देवेंद्र सिंह नेगी, प्रगतिशील किसान मनोहर सोलंकी, एकीकृत आजीविका सहयोग परियोजना के सुरेंद्र सिंह ने भी मेले में भाग लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *